Mimi: Kriti Sanon said –despite being nauseous to get fat from fit used to eat continuously | कृति सेनन ने कहा-फिट से फैट होने के लिए उबकाई आने के बावजूद भी लगातार खाती रहती थी

टॉप न्यूज़

मुंबई7 घंटे पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • कॉपी लिंक

‘मिमी’ में कृति सेनन एक सड़क छाप चालाक सेरोगेट मदर का किरदार निभा रही हैं। इस फिल्म में कृति उस समय एक उलझन में फंस जाती हैं, जब उनकी एक योजना बुरी तरह से विफल होती है। कृति ने फिल्म में प्रेग्‍नेंट महिला का किरदार प्‍ले करने के लिए आर्टिफिशियल और स्पेशल इफेक्ट्स का सहारा नहीं लिया है। कृति और उनके निर्देशक गर्भावस्था के अलग-अलग चरणों को यर्थाथ रूप में दिखाने के लिए बेहद स्पष्ट थे। फिर चाहे इसके लिए कोई भी कीमत क्यों ना हो, कृति ने पूरे साहस के साथ इस चरित्र को अपनाने के लिए आगे कदम बढ़ाया। व्यायाम को बिल्कुल रोक दिया, कृति ने फिल्म के पहले शेड्यूल के खत्म‍ होने तक इतना अधिक खाया जैसे कि खाने के अलावा उनके पास कोई और काम ना हो। हालांकि, कृति के लिए इस तरह से वजन बढ़ाना बहुत आसान नहीं था।

हर दो घंटे में मुझे भूख ना होने पर भी कुछ ना कुछ खाना पड़ता था
कृति सेनन ने कहा, “शानदार मेटाबॉलिज्म होने के कारण मैं हर तरह का खाना खाने में सक्षम हूं। इसी कारण मेरे लिए वजन बढ़ाना बहुत आसान था। सबसे अधिक तले हुए नाश्ते से लेकर शुगर से भरपूर खूब मिठाईंया खाने तक, मैंने खुद को सामान्य से अधिक खाने के लिए तैयार किया। हर दो घंटे में मुझे भूख ना होने पर भी कुछ ना कुछ खाना पड़ता था। कुछ समय बाद इतना अधिक जंक फूड खाने से मुझे मि‍तली होने लगी थी। मुझे इस दौरान योगा के साथ-साथ किसी भी तरह का व्यायाम करने की इजाजत नहीं थी, जिससे कि मैं बहुत ज्यादा अनफिट महसूस करने लगी थी।”

कृति अपने किरदार में पूरी तरह से डूब गईं थीं और यह दिखाई भी देता है
कृति सेनन के ऐसे जुनून से निर्देशक लक्ष्मन उतेकर बहुत प्रभावित हुए। इस बारे में लक्ष्मन का कहना है कि किसी किरदार को निभाना और उस किरदार में डूब जाना दोनों में बहुत फर्क है। कृति अपने किरदार में पूरी तरह से डूब गईं और यह दिखाई भी देता है। बहुत कम अभिनेता अपनी कला को अपने स्टारडम से ऊपर रखते हैं। कृति पहली कलाकार हैं जो ये जानती थीं कि ‘मिमी’ उनसे बहुत कुछ मांग करेगी। उनका ये प्रदर्शन कड़ी मेहनत और समर्पण का परिणाम है। वो जानती थीं कि वे इन कैलोरीज को बाद में घटा लेंगी। लेकिन चरित्र में पूरी तरह से डूब जाना समय की मांग है। इस मामले में, इसका सही मायने में अर्थ है कि स्वादिष्ट पकवानों में डूबकी लगा देना।”

लक्ष्मन इस दौरान ऐसे सच्चे दोस्त साबित हुए जिसकी असल में जरूरत थी, वे अपनी मुख्य अभिनेत्री को कैलोरी से भरपूर गुडीज भेज रहे थे। उन्होंने बताया, “मुझे याद है स्वादिष्ट चीजों से भरा हुआ हैंपर भेजना वाकई वजन करने वाली मशीन को झटका देना जैसा था, लेकिन ये सब उनके लुक को स्क्रीन पर न्याय देने के लिए किया गया था।”

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *