Sidharth Shukla Prayer Meet: Brahma Kumari Shivani On TV Actor Mother Rita Shukla Strength | ब्रह्मकुमारी शिवानी का खुलासा, सिद्धार्थ के निधन के बाद उनकी मां ने कहा था, ‘मेरे पास परमात्मा की शक्ति है, बस एक ही संकल्प है वो जहां जाएगा खुश रहेगा’

टॉप न्यूज़

4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

टेलीविजन एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के पांचवें दिन उनकी याद में प्रेयर मीट का आयोजन किया गया। ऑनलाइन हुई इस प्रेयर मीट में सिद्धार्थ के परिवार, उनके फैन्स के अलावा ब्रह्मकुमारी से शिवानी भी जुड़ीं। उन्होंने खुलासा किया कि सिद्धार्थ के निधन के बाद उनकी मां रीता ने उनसे बातचीत में क्या कहा था।

बिग बॉस 13 में सिद्धार्थ के को-कंटेस्टेंट रहे पारस छाबड़ा ने प्रेयर मीट का वीडियो शेयर किया जिसमें ब्रह्मकुमारी शिवानी रीता शुक्ला(सिद्धार्थ की मां)की तारीफ करती दिख रही हैं। ब्रह्मकुमारी शिवानी ने कहा, रीता मां ने स्थिरता और शक्ति दिखाई। जब मैंने 2 सितंबर को सिद्धार्थ के निधन के बाद उनसे कॉल करके पूछा कि क्या वो ठीक हैं तो उन्होंने मुझसे कहा, मेरे पास परमात्मा की शक्ति है। मुझे रीता मां ने कहा था कि मुझे सिर्फ एक ही संकल्प है, वो खुश रहेगा जहां जाएगा।

नए घर में बनवा रहे थे मेडिटेशन रूम

दिवंगत सिद्धार्थ शुक्‍ला बचपन से अपनी मां के साथ ब्रह्माकुमारी सेंटर आया जाया करते थे। वो अब जहां नया घर बनवा रहे थे, वहां वो बाकायदा एक विशाल मेडिटेशन रूम बनवा रहे थे। मुंबई के विले पार्ले सेंटर की ब्रह्मकुमारी तपस्‍व‍िनी बहन ने दैनिक भास्‍कर से बातचीत में यह बात कन्‍फर्म की थी। उन्‍होंने कहा, ’वो 19 अगस्‍त को राखी पर आए थे। रक्षासूत्र बांध कर गए थे। हमारी हर्षा बहन ने उन्‍हें मेडिटेशन का कोर्स करवाया। वह माउंट आबू के मेन सेंटर भी गए। भगवान शिव की खूब आराधना करते थे।‘

बिग बॉस में जाने से पहले आशीर्वाद लेने आए थे सिद्धार्थ

तपस्विनी बहन आगे कहती हैं,’ सिद्धार्थ मिजाज से बहुत सहयोगी थे। अच्‍छे और सच्‍चे व्‍यक्ति थे। दानी भी थे बहुत बड़े। किसी को धोखा देकर नंबर वन बन जाने की मंशा नहीं रहती थी। कभी नहीं लगा कि लाइफ को लेकर वो किसी तरह के तनाव आदि में हैं। ‘बिग बॉस’ में जाने से पहले वो मेडिटेशन करने हमारे सेंटरों में आए थे। सभी से आशीर्वाद लिया। फिर वापस गए। वहां से जीत हासिल करने के बाद फिर हम सब से मिलने आए थे। वो रेगुलर टच में रहते थे। जन्‍माष्‍टमी पर भी हम सब को विश किया था। अब जहां वो नया मकान बना रहे थे, वहां एक मेडिटेशन रूम भी बनवा रहे थे।‘

ब्रह्मकुमारी समाज के रीति-रिवाजों से हुआ था अंतिम संस्कार

सिद्धार्थ शुक्ला का अंतिम संस्कार ब्रह्मकुमारी समाज की रीति-रिवाजों से हुआ था। यहां तक की तपस्विनी बहन ने अंतिम संस्कार की प्रक्रिया बताते हुए कहा, पार्थिव शरीर के चारों तरफ बैठकर मेडिटेशन करते हैं। टीका लगाने और चादर ओढ़ाने के बाद मेडिटेशन किया जाता है, जो 15 मिनट तक चलता है। हम मानते हैं कि परमात्वा शिव का हाथ उनके साथ है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *